Thursday, 15 May 2014

एक अधूरा 'ख्वाब'



ख्वाब एक ऐसे परिदृश्य पर बनी हुई फ़िल्म है जो देश मे खेलों के वास्तविकता को उजागर करती है. देश में सिर्फ़ क्रिकेट को बहुत इज़्ज़त, नाम और सम्मान दिया जाता है, और सारे खेल निम्न है, इसी सच को उजागर करती है ज़ाइद ख़ान कि फ़िल्म 'ख्वाब'. फिल्म की शुरुआत एक ऐसे मोमेंट से होती है, जो काफी कन्फ़्यूज़िंग है, मगर बजरंगबलि सिंह कि सधी हुई अदाकारी ने संभाल लिया। इस पूरी मूवी के दौरान अगर किसी के काम ने सबसे ज़्यादा प्रभावित किया तो वो है बजरंग बलि सिंह जी कि अदाकारी। नफीसा जी की एंट्री तो शानदार थी, मगर एग्जिट बहुत ही अनप्रेडिक्टबल था.

बिना गाने के हिन्दी फिल्मों कि उम्मीद नही होती,मगर इस मिथक को तोड़ने मे ये फ़िल्म कामयाब रही है. इस फिल्म में वो दर्द, वो पीडा जो हमारे देश के खिलाडी हर रोज़ महसूस करते है, वो बहुत ही अच्छी तरह से दर्शाने क प्रयास किया है.

यदि डायरेक्शन कि बात कि जाए तो ये बहुत ही अचंभित कर देता है कि एक नए डायरेक्टर ने जो कि एक लव स्टोरी बनाकर बहुत आमदनी कर सकता था,इतने बड़े एवं गंभीर मुद्दे को उठाने का प्रयास किया है,जो वाकई मे प्रशंशनीय है. सिमर का स्विमिंग कैंप मे आना और इतनी आसानी से खुद को एडाप्ट कर लेना, जैसे कि स्विम सूट पहन कर बाहर आ जाना, एक आदेश पर ऐसे खुद को ढाल लेन कुछ ज़्यादा ही अटपटा लगा.

एक इंसान जो कोच है क्या इतनी जल्दी गुस्सा हो जाता है कि पहली ही बार मे नवदीप के जूते उठा के फेंक देता है,क्या उसमे बिल्कुल भी सहन शक्ति नही होगी, यदि नही तो वो ऐसे कैंप का हेड कमिटी मे कैसे हो सकता है? शायद इन सवालों को सॉल्व करने मे निर्देशक नाकाम रहा है.

इसमें कोइ शक नही रहता कि बजरंगबली सिंह जी कि अदाकारी ने इस फ़िल्म को देखने गये लोगो क ध्यान बांधे रखा. नवदीप सिंह कई जगहों पर बहुत अच्छे लगे, मगर सिमर शायद कहीं वेस्ट सी लगी. असल मे फ़िल्म बहुत कूद फांद मारती हुए सी लग रही थी, शायद एडिटिंग और सही से होनी चाहिए थी.

ये समझ ही नही आता कि बजरंगबलि सिंह आखिर वो स्टापवाच लेकर बस में क्यों घूम रहे थे? उनका करैक्टर सही से एस्टाब्लिश ही नही किया गया. कुल मिलाकर कहें तो एक नये डायरेक्टर कि ये एक अच्छी कोशिश कही जा सकती है.

मैं इस फिल्म को देखने की सलाह ज़रूर दूंगा,खास तौर पर बजरंगबली सिंह के लिए. ख्वाब हम सब देखते है और हमें देखने भी चाहिए, क्यूँकि यही हमें जीने कि प्रेरणा देते है.